जब किसी ने नहीं सुनी, तो हमने “सड़क” चुनी



न्यूज़ चक्र @कोटपूतली।  शहर के लक्ष्मी नगर व पटेल कॉलोनी की महिलाएं इन दिनों ‘पानी’ से परेशान हैं। आधे लक्ष्मी नगर में जहां पानी गंदा आ रहा है वहीं पटेल कॉलोनी को पिछले तीन चार महीनों से पानी ही नहीं मिल रहा है। कारण कि नेशनल हाईवे निर्माण कंपनी ने निर्माण कार्य के चलते जगह-जगह से पाइप लाइनें उखाड़ दी हैं। और अब इन लाइनों को ना ही जलदाय विभाग दुरुस्त कर रहा है और ना ही निर्माण कंपनी। स्थानीय निवासियों ने वार्ड पार्षद की अगुवाई में कई बार जलदाय विभाग को ज्ञापन सौंपा, लेकिन तीन चार महीने से टालमटोल के अलावा कोई निश्चित समाधान नहीं निकला। जिस से परेशान महिलाओं ने मंगलवार को नेशनल हाईवे 8 की सर्विस लाइन को जाम कर दिया। जिससे सर्विस लाइन पर भारी जाम के हालात हो गए। जाम खुलवाने के लिए स्थानीय पुलिस प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ी। हालांकि मौके पर पहुंचे निर्माण कंपनी के ठेकेदार ने शीघ्र ही पाइप लाइन को दुरुस्त करने का आश्वासन दिया, इसके बाद महिलाओं ने एक-दो दिन का समय देकर जाम हटा दिया।

लेकिन सवाल यह है कि हर बार किसी समस्या से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन को ही मशक्कत क्यों करनी पड़ती है।

क्यों कोटपूतली का कोई विभाग अपनी जिम्मेदारी नहीं समझता ?

क्यों हर बार आमजन को अपनी समस्या समाधान के लिए सड़क पर आकर जाम ही लगाना पड़ता है ?

हम यह सवाल इसलिए कर रहे हैं क्योंकि इन्ही महिलाओं ने पिछले दिनों भी पटेल कॉलोनी में भरे गंदे पानी की निकासी को लेकर इसी सर्विस लाइन को जाम कर दिया था और फिर पुलिस प्रशासन को ही समस्या समाधान के लिए आगे आना पड़ा था।

1 thought on “जब किसी ने नहीं सुनी, तो हमने “सड़क” चुनी”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *