सपनों भरी रात गुजर जाने के बाद, फिर से एक नई सुबह और हम…




सुबह सुबह जब नीद खुली तो एक सुहानी और खूबसूरत सुबह का एहसास मन को छू गया लगा, जैसे सारे सपनों को हकीकत का रूप देने का एक और मौका एक नयी सुबह के साथ आया है । हम सब कोशिश करते है इन सारे सपनों को हकीकत का रूप देने की, पर हम सब ये भी जानते है कि सारे सपने पूरे नहीं होते है फिर भी हम लगे रहते है बस लगे रहते है। क्या करें जितना भी करो सब कम पड़ जाता है, पर हमें कर्म तो करना ही पड़ता है फल तो अवश्य मिलेगा।

यही सब बातें सोच-सोच कर पूरा दिन निकल जाता है, फिर से एक नई रात और उस सपनों भरी रात के गुजर जाने के बाद फिर से एक नई सुबह और हम फिर से हम लग जाते है वही सब पूरा करने मैं, यही चक्र हम सब के जीवन मैं चलता रहता है।
ये भी सत्य है कि कुछ लोगो के सपने पूरे होते हैं और कुछ लोगो के सपने अधूरे रह जाते है दुखी सभी रहते है। जिन लोगो के सपने पूरे हो जाते हैं वो कुछ समय के लिए सुखी रहते है पर जो सपने पूरे नही हो पते है उन के मन मैं कही न कही थोड़ा बहुत दुख जरूर रहता है।
मेरा मतलब ये है कि हम सब इसी तरह से जीवन जीते हैं और इसी तरह से जीवन जीते रहेंगे । ये जीवन हमारा एक चक्र मैं घूमता रहता है । इस जीवन चक्र मैं मनुष्य सुख और दुख के भंवर मैं फंसा है और अपने जीवन को चला रहा है।अज्ञात


जीवन चक्र में आप भी अपने जीवन के अनुभव और संस्मरण शेयर कर सकते हैं। हमें whatsapp करें 7877660141 पर।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *