स्वाईन फ्लू की स्क्रीनिंग के लिए प्रदेश में 21 से 23 जनवरी तक विशेष अभियान- चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री 

न्यूज़ चक्र, कोटपुतली/ जयपुर, 17 जनवरी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि स्वाईन फ्लू की रोकथाम, जागरूकता एवं स्क्रीनिंग के लिए सम्पूर्ण प्रदेश में 21 जनवरी से 23 जनवरी तक विशेष अभियान चलाया जायेगा। इस अभियान के तहत घर-घर जाकर स्वाईन फ्लू की स्क्रीनिंग की जायेगी।

चिकित्सा मंत्री ने गुरूवार को सांय स्वास्थ्य भवन में आयोजित उच्च स्तरीय स्वाईन फ्लू समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में स्वाईन फ्लू से बचाव, रोकथाम व इसके त्वरित उपचार की चिकित्सा सेवायें सभी जिलों में पूरी संवेदनशीलता के साथ उपलब्ध करवायी जा रही हैं। अभी तक 5 हजार 130 सैम्पल की जांच में से 1 हजार 23 सैम्पल स्वाईन फ्लू पॉजिटिव पाये गये। स्वाईन फ्लू की रोकथाम के लिए व्यापक स्तर पर कार्यवाही की जा रही है एवं रेपिड रेस्पोंस टीमें घर-घर जाकर हैल्थ स्क्रीनिंग का कार्य भी कर रही हैं। 
स्क्रीनिंग की पुख्ता व्यवस्था 
डॉ. शर्मा ने बताया कि स्वाइन फ्लू पॉजिटिव पाये जाने पर रोगी के संपर्क में आये लोगों व पड़ोसियों की समुचित स्क्रीनिंग के साथ-साथ रेनबसेरों, स्कूलों, होटलों एवं छात्रावास इत्यादि स्थानों पर विशेष सतर्कता बरती जा रही है। उन्होंने बताया कि तेज बुखार, जुखाम,  5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों, 60 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्तियों एवं गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतकर टेमीफ्लू की दवाई दी जा रही है। 
छात्रों को स्वाईन फ्लू के बारे में किया जायेगा जागरूक
डॉ. शर्मा ने बताया कि सभी राजकीय विद्यालयों में होने वाली प्रार्थना सभाओं मेें छात्रोें को स्वाईन फ्लू के बारे में जानकारी दी जायेगी। उन्हें स्वाईन फ्लू के लक्षणों एवं उपचार के बारे में बताया जायेगा। उन्होंने इस संबंध में शिक्षा विभाग से समन्वय स्थापित कर यह जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिये हैं। 
स्वाईन फ्लू के लिये अलग से बैड आरक्षित
डॉ. शर्मा ने बताया कि सभी जिला अस्पतालों में स्वाईन फ्लू के उपचार के लिए अलग से 20 से 25 बैड आरक्षित करते हुए आवश्यकतानुसार आईसीयू वार्ड में वेन्टीलेटर्स भी आरक्षित किये गये हैं। उन्हाेंने बताया कि मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध अस्पतालों, जिला अस्पतालों एवं उपखंड अस्पतालों में स्वाईन फ्लू के मरीजों की जांच एवं उपचार के लिये अलग से आउटडोर प्रारंभ किये गये हैं। 
बैठक में अतिरिक्त प्रमुख शासन सचिव आयुर्वेद अश्वनी भगत, चिकित्सा शिक्षा सचिव हेमन्त गेरा, मिशन निदेशक एनएचएम डॉ.समित शर्मा, निदेशक जनस्वास्थ्य डॉ.वी.के.माथुर, एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भण्डारी, अधीक्षक डॉ. डी.एस. मीणा, आरएमएससी के प्रबंध निदेशक सुरेश गुप्ता सहित संबंधित वरिष्ठ अधिकारीगण मौजूद थे। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *