मानव अधिकार हर समय, हर जगह लागू होते हैं, यह सार्वभौमिक हैं- धोलीवाल

न्यू चक्र, कोटपूतली। मानवाधिकार सार्वभौमिक है। इसलिए यह हर समय हर जगह लागू होते हैं। अधिकारों को अनौपचारिक मौलिक अधिकारों के रूप में जाना जाता है। यह विचार डाबला रोड स्थित राजपूताना पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर एच. एन धोलीवाल ने अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस पर व्यक्त किये। कार्यक्रम अधिकारी तृतीय ताराचंद सैनी ने मानव अधिकारों से संबंधित जानकारी से स्वयंसेवकों को अवगत करवाया। 

इसके अंतर्गत महाविद्यालय में निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गई। जिसमें रितिक योगी प्रथम, सोनम जाट द्वितीय और पूनम चौधरी तृतीय स्थान पर रही। इस दौरान उप प्राचार्य दयानंद गुर्जर, सहायक प्रोफेसर राजेंद्र प्रसाद धोलीवाल, इंद्राज सराधना, दुलीचंद जाट व सैकड़ों स्वयंसेवक उपस्थित रहे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *