पीपीई किट सुरक्षा के साथ पहनना जरूरी…कैसे पहनें पढ़िए…

न्यूज चक्र, कोटपूतली। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए आप और हम तो मास्क और दस्ताने का इस्तेमाल कर रहे हैं, लेकिन कोरोना मरीजों के इलाज में लगे डॉक्टर, नर्स, कंपाउंडर और मेडिकल स्टाफ को सिर से पांव तक वायरस संक्रमण से बचाव के लिए कई तरह की चीजें पहननी होती हैं, जिसे पीपीई किट कहते हैं। पीपीई किट्स अलग-अलग बीमारियों के लिए अलग तरह के हो सकते हैं, लेकिन आम तौर पर मास्क, ग्लोव्स, गाउन, एप्रन, फेस प्रोटेक्टर, फेस शील्ड, स्पेशल हेलमेट, रेस्पिरेटर्स, आई प्रोटेक्टर, गोगल्स, हेड कवर, शू कवर, रबर बूट्स इसमें गिने जा सकते हैं। इनमें से बहुत कुछ पहने डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ को हम और आप आए दिन देख रहे हैं।


इन सारी चीजों को पहनने का मकसद एक ही है- मरीज से कोराना वायरस, इलाज कर रहे लोगों में ना फैल जाए। लेकिन फिर भी हमने देखा, दिल्ली व जयपुर समेत पूरे देश में कोरोना मरीजों का इलाज करते- करते कई डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ खुद कोरोना के मरीज बन गए हैं। इसका एक मुख्य कारण इन्फेक्टेड पीपीई किट को उतारते समय पूर्ण सावधानी नही रखना, और सावधानी से नही पहनना भी माना जा रहा है।


तो आइए, आपको बताते हैं, पीपीई किट यानी पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट्स को कैसे हम सुरक्षित रूप से पहन व उतार सकते हैं। चुंकि यह पीपीई किट चिकित्सा क्षेत्र के अलावा पुलिसकर्मी व अन्य कोरोना योद्धाओं के द्वारा भी पहना जा रहा है, तो आपको जानकारी दे रहे हैं, जयपुर सवाई मानसिंह अस्पताल से कोरोना योद्धा मेल नर्स हरिसिंह भाटी। निवेदन है कि कोरोना की जंग से जुड़े सभी कोरोना योद्धा डॉक्टर्स, नर्सेज, पैरामेडिकल स्टाफ, समाजसेवी,पुलिसकर्मी, सुरक्षाकर्मी आदि इसे ध्यान से पढ़ें।

सबसे पहले आप पीपीई किट से जुड़े सभी सुरक्षा उपकरणों को एक जगह रखें।
फिर अपना मोबाईल, घड़ी, पर्स या जो भी आभूषण आपने पहना हो, उसे उतार दें, और हैंडवाॅश करें।
फिर जांच करें कि पीपीई किट कटा-फटा ना हो।
फिर हैंड सेनेटाईज करें,
और दोनों जूते कवर पहनें…
हाथों को दोबारा किटाणु रहित करें
दस्ताने की पहली जोड़ी पहनें और आस्तीन को जहां तक संभव हो खींचें।
फिर गाउन पहनें और फिटनेस की जांच करें।

फिर एन 95 मास्क पहनें, और नाक के पुल पर ठीक से फिट करें।
और फिर तेज फूंक मारकर लीक प्रूफ टेस्ट करें।
इसके बाद हुड पहनें और सिर के पीछे बांध लें।
इसके बाद दस्ताने की दूसरी जोड़ी पहनें, इससे गाउन की आस्तीन कवर होनी चाहिए।
गाउन की फिटनेस की जांच करें, और अब डोनिंग क्षेत्र से बाहर आने के लिए आप तैयार हैं।

और दोस्तों, आईए अब इसी तरह से पीपीई किट को उतारने का तरीका भी जान लेते हैं।

सबसे पहले डोफिंग रूम में एक कुर्सी, एक बीएमडब्ल्यु बिन और स्वचालित हैंड रब होना सुनिश्चित करें।
फिर पीपीई किट के फटे और संदूषण के लिए जांचे।
फिर बाहरी दस्ताने किटाणुरहित करें, और जूते का कवर हटा दें।
फिर बाहरी दस्ताने किटाणुरहित करें और बाहरी दस्ताने निकाल दें।

इसके बाद दोनों हाथों के दस्ताने का निरीक्षण करें, व किटाणु रहित करें।
इसके बाद आगे झुककर टोपी निकाल दें, और कमर के स्तर से खींचकर गाउन निकालें।
ध्यान रहे, आस्तीन से एक समय एक हाथ खींचे।
इसके बाद गाउन को अंदर से बाहर और शरीर से दूर रोल कर बिन में डाल दें।
इसके बाद अंदर के दस्ताने किटाणुरहित कर, दस्ताने निकाल दें।
इसके बाद हाथों को किटाणुरहित कर नए दस्तानें पहनें।
फिर एन 95 मास्क निकाल दें, और दस्ताने किटाणुरहित करें।
इसके बाद जूतों के तले को सेनेटाईज कर दस्ताने निकाल दें, और हाथ सेनेटाईज करें।
इसके बाद हाथ सेनेटाईज कर, स्नान करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *