धरना स्थगित, धरनार्थियों पर पुलिस करेगी मुकदमा दर्ज

न्यूज चक्र, कोटपूतली। विकास वर्मा। कोटपूतली महेश हत्याकांड की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर पिछले 20 दिन से चल रहा धरना आज प्रशासन के एक आश्वासन पर 10 दिन के लिए स्थगित कर दिया गया। पुलिस प्रशासन ने एसडीएम सुनीता मीणा की मौजूदगी में धरनार्थियों को महेश हत्याकांड मामले की जांच 10 दिन में पूरी करने का आश्वासन दिया है। धरनार्थियों की तरफ से पूर्व संसदीय सचिव रामस्वरूप कसाना, भाजपा नेता मुकेश गोयल व समाजसेवी राधेश्याम शुक्लावास ने मध्यस्थ की भूमिका निभाते हुए 10 दिन के लिए धरना स्थगित कर 10 दिन में पीड़ित को न्याय नहीं मिलने पर उग्र आंदोलन की बात कही है। वहीं धरना संयोजक किशोर दूल्हेपुरा ने कहा है कि 10 दिन में निष्पक्ष जांच कर आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता है तो 14 अगस्त से उग्र आंदोलन किया जाएगा।


वहीं मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कोटपूतली एएसपी रामकुमार कस्वां ने कहा है कि कोरोना महामारी के चलते जिले में 144 लागू है, और इस दौरान धरनार्थियों ने महापड़ाव हेतु प्रशासन से अनुमति नहीं ली थी, और 144 का उल्लंघन हुआ है, जिस पर धरनार्थियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की जाएगी। आपको बता दें कि धरना पिछले 20 दिन से लगातार जारी है, और आज धरना स्थगित किए जाने के बाद प्रशासन की ओर से कार्यवाही की बात करना, प्रशासन की मंशा पर सवाल खड़े करता है।


10 दिन में उचित कार्रवाही नहीं तो कसाना व गोयल दिलाएगें ‘न्याय’
धरना स्थल पर उपस्थित जनसमूह को सबोधित करते हुए पूर्व संसदीय सचिव रामस्वरूप कसाना ने कहा कि ‘ पीड़ित परिवार को लड़ने के लिए धन की कमी नहीं आने दी जाएगी, साथ ही न्याय मिलने तक मुकेश गोयल व रामस्वरूप कसाना पीड़ित परिवार व धरनार्थियों के साथ हैं।’


समझौते से पूर्व धरनार्थियों ने डाला महापड़ाव, पुलिस जाप्ता रहा मौजूद
धरने के 20 वें दिन बुधवार को महेश हत्याकांड में आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करने और मामले की जांच में देरी के खिलाफ धरनार्थियों ने महापड़ाव किया, जिसमें सैकड़ों की संख्या में सर्व समाज के लोग धरनास्थल पर डटे रहे। इस दौरान पुलिस प्रशासन की ओर से भी कई थानों का जाप्ता धरनास्थल पर मौजूद रहा।

न्यूज चक्र चैनल पर समाचार click this…

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *