खुले बाजार, माहौल ‘गुलजार…’ व्यवस्था ‘तार तार’

न्यूज चक्र, कोटपूतली। लाॅकडाउन ‘चार’ शुरू होते ही बाजार ‘गुलजार’ नजर आने लगे हैं। ऐसा लगता है जैसे लाॅकडाउन पूर्ण रूप से हटा दिया गया है। कोटपूतली शहर की हर गली, चैराहा और बाजार ‘भीड़’ से गुलजार नज़र आ रहे हैं। हालांकि राज्य सरकार ने ग्रीन व ओरेंज जोन में कुछ सावधानियों के साथ दुकानदारों को दुकानें खोलने की इजाजत दी है। लेकिन कोटपूतली शहर में दुकानों का सामान लाॅकडाउन से पहले की तरह ‘सज’ गया है। ..और ग्राहकों की भीड़ भी पहले की तरह ही बेफ्रिक है और अब ‘कोरोना ’ खरीदने पर आमदा है।

न्यूज चक्र ने आज लाॅकडाउन के चैथे चरण के पहले दिन शहर का जायजा लिया, तो तस्वीरें ‘किसी तूफान से पहले की शांति’ की ओर इशारा करती हैं। कोटपूतली शहर में पुलिस चैकी के सामने सब्जी व फल विक्रेता बिना मास्क व दस्तानों के ‘बेफ्रिक’ होकर ग्राहकों को ‘संभाल’ रहे हैं। वहीं कोटपूतली के बाजार की एक-एक गली ‘ग्राहकों’ से गुलजार दिखी, लेकिन सोशल डिस्टेंस की पालना या मास्क ना लगाना दुकानदारों और ग्राहकों दोनों को भारी पड़ सकता है।

बिना मास्क के दुकानदार और ग्राहक !

हालांकि लाॅकडाउन के चैथे चरण के नियमों व शर्तों से अवगत कराने के लिए आज कोटपूतली एडीएम डाॅ. सत्यवीर सिंह ने कोटपूतली व्यापार मण्डल के पदाधिकारियों के साथ बैठक आयोजित कर दुकानदारों को सख्ती से प्रशासनिक एडवाईजरी का पालन करने को कहा है। बैठक में एडीएम डाॅ. सत्यवीर सिंह ने दुकानदारों को ग्राहक से 5 फिट की दूरी बनाए रखने और मास्क ना लगाने वाले ग्राहकों को सामान ना देने के लिए भी निर्देशित किया। बैठक में कोटपूतली एसडीएम नानूराम सैनी व तहसीलदार अनूप सिंह भी उपस्थित रहे।

कोटपूतली व्यापार मण्डल के पदाधिकारियों के साथ बैठक

…लेकिन बाजार में स्थिति इसके विपरित दिखाई दे रही है। अधिकतर दुकानदार खुद बिना मास्क के ग्राहकों को सामान बेच रहे हैं, और ग्राहक भी बिना मास्क के सामान खरीद रहे हैं। जबकि राज्य सरकार के निर्देशानुसा बिना मास्क घूमने वालों से ‘जुर्माना’ वसुलने के निर्देश हैं।

न्यूज चक्र बुलेटिन। प्रतिदिन रात 10 बजे। चैनल को अभी SUBSCRIBE करें, यहां क्लिक करें।

कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए ‘जनता’ व प्रशासन, दोनों को सख्ती से राज्य सरकार द्वारा जारी एडवाईजरी की पालना करनी होगी। भीड़ से अनियंत्रित होते बाजारों को ‘प्रशासन’ के द्वारा संभालना होगा। अन्यथा मौजूदा स्थिति कोटपूतली शहर के ‘भविष्य’ को ‘रेड जोन’ में पहुंचा सकती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *